Increase / Decrease
Choose color

मनीषा की जिद

सपनों का हक की आठवीं पत्रिका इस बात पर अचरज प्रकट करती है कि युवा लड़कियाँ अगर अपनी एजेंसी के काम कर सकीं और अपने बाल विवाह को टाल सकीं तो क्या-क्या उपलब्धियाँ हासिल कर सकती हैं? यह पत्रिका एक युवती मनीषा की कहानी बताती है, जो अपने माता-पिता को समझाकर अपना बालविवाह टालने में कामयाब रही और युवतियों के लिए यूपी कौशल विकास मिशन के अंतर्गत रोजगारपरक शिक्षा केंद्र शुरू किया।