Increase / Decrease
Choose color

परामर्शदाता: नीति

डेटा थीम: अनुदान, स्वास्थ्य और पोषण 

उद्देश्य: ग्रामीण स्वास्थ्य और पोषण दिवस (VHNDs) में परामर्शदाताओं, फ्रंटलाइन हेल्थ वर्कर और प्रखंड स्तर के अधिकारियों से कंसल्टेशन में किशोरों के यौन और प्रजनन स्वास्थ्य परामर्श सेवा पर अधिक ध्यान देना।

मुख्य परिणाम: इस रणनीतिक अंतःक्षेप ने फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कर्मियों और समुदाय के किशोरों के बीच कई बैठकें आयोजित की, जहाँ किशोरों की आवश्यकताओं, माँगों और अनुशंसाओं को समझने पर फोकस किया गया। 

युवा नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल VHNDs और AFHC की बेहतर सेवा प्रदायगी की माँग को लेकर, किशोरों और समुदाय के सदस्यों के 100 हस्ताक्षर वाला एक माँगपत्र सौंपने प्रखंड स्तर के विभिन्न अधिकारियों से भी मिले। किशोर प्रभारी चिकित्सा अधिकारी और मुख्य चिकित्सा अधिकारी जैसे अधिकारियों से मिले और उनसे अपने पंचायत के VHNDs आने और स्वयं परिस्थिति को देखने का अनुरोध किया। इसके बाद, अधिकारी VHNDs पर पहुँचे और VHNDs पर किशोरों के स्वास्थ्य तथा प्रजनन अधिकारों में सुधार लाने की मौखिक प्रतिबद्धता दर्शायी।

इस अंतःक्षेप ने जिला अधिकारियों के साथ बैठकों और पक्ष समर्थन के अवसरों की सुविधा के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए। ग्रामीण स्वास्थ्य और पोषण दिवस (VHNDs), किशोरों के लिए विभिन्न स्वास्थ्य शिविर और अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस के कार्यक्रम आयोजित किए गए। 

स्थानीय किशोरों को VHND पर राष्ट्रीय किशोर स्वास्थ्य कार्यक्रम (RKSK) के अनुसार अनुदान एवं जानकारी प्रदान किए गए। स्वास्थ्य शिविरों में किशोरियाँ स्त्री रोग विशेषज्ञों से मिलीं। अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने के दिन कम से कम 50 किशोरों और युवाओं ने किशोरों के लिए बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यकता से संबंधित जागरूकता कार्यक्रमों में भाग लिया। 

प्रक्रिया:  किशोरों के स्वास्थ्य और प्रजनन अधिकारों पर मौजूदा कार्यों से संबंधित UDAYA डेटा को वाराणसी के एक प्रखंड के चार पंचायत के किशोरों की बैठकों में प्रस्तुत किया गया। डेटा से जमीनी सच्चाई की पुष्टि हुई और उसके बाद हुई चर्चा में किशोरों ने हिंसा, बालविवाह और जबर्दस्ती विवाह तथा VHNDs जैसे किशोरों के चार पंचायत के किशोरों के स्वास्थ्य कार्यक्रमों के अंतर्गत मिलने वाली सेवाओं तक पहुँच और अनुदानों की उपलब्धता बनाए रखने पर ध्यान देने का निर्णय लिया।

किशोरों ने अपने समुदाय के लिए उपलब्ध सेवाओं की वर्तमान स्थिति को समझना शुरू किया और उसके बाद अनुशंसाओं सहित एक रिपोर्ट तैयार किया। इसके बाद समूह अपनी रिपोर्ट और अनुशंसाएँ देने और इस पर चर्चा करने के लिए फ्रंटलाइन स्वास्थ्य कर्मियों (FLWs) से मिला। 

इस अंतःक्षेप ने डेटा को व्यापक जनसमुदाय के सामने पेश करने के लिए भी किशोरों के लिए अवसर का सृजन किया, और बेहतर परामर्श सेवा की उनकी माँग को प्रोत्साहन देने के लिए संयुक्त रूप से एक हस्ताक्षर अभियान भी चलाया। समुदाय के लगभग 100 लोगों ने किशोरों की अनुशंसाओं का समर्थन किया।

किशोरों के समूह अपना पत्र देने के लिए स्वास्थ्य सेवा प्रदायगी का दायित्व रखने वाले प्रखंड स्तर के विभिन्न सरकारी अधिकारियों से भी मिले, जैसे प्रभारी चिकित्सा अधिकारी, मुख्य चिकित्सा अधिकारी आदि। उन्होंने अधिकारियों से अपने पंचायत के VHNDs पर आकर खुद परिस्थितियाँ देखने का आग्रह किया। इसके बाद, अधिकारी VHNDs पर आए और उन्होंने VHNDs पर किशोरों के स्वास्थ्य और प्रजनन अधिकारों पर बेहतर ध्यान देने का मौखिक वादा किया।

जिला के अधिकारियों के साथ बैठकों और पक्ष समर्थन के अवसरों के सृजन के लिए ग्रामीण स्वास्थ्य और पोषण दिवस, किशोरों के लिए कई चिकित्सा शिविर लगाने और अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने सहित कई कार्यक्रम आयोजित किए गए। किशोरों को स्त्री रोग विशेषज्ञ से मिलने के अवसर के साथ ही जानकारी और अनुदान भी मिले। कम से कम 25 लड़कियों की नियमित स्वास्थ्य जाँच हुई और बहुतों के लिए यह किसी स्वास्थ्यकर्मी से मिलने का पहला अवसर था। अंतर्राष्ट्रीय युवा दिवस पर, कम से कम 50 किशोरों और युवाओं ने किशोरों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं की आवश्यकता पर जागरूकता बढ़ाने के कार्यक्रम में भाग लिया। कई अधिकारियों और FLWs ने सेवा की गुणवत्ता और सेवा प्रदायगी में सुधार हेतु सहयोग देने का आश्वासन दिया।